Breaking News
Home / देश / केरल में अब कोबरा और मगरमच्‍छों का कहर, Snake Man की ली जा रही मदद

केरल में अब कोबरा और मगरमच्‍छों का कहर, Snake Man की ली जा रही मदद

कोच्चि : केरल में भीषण मानसून और बाढ़ का पानी उतरने के बाद अब जब लोग घरों को लौट रहे हैं तो उन्हें कोबरा और अन्य जहरीले सांपों के खौफ ने घेर लिया है. ये सांप टॉयलेट यलेट, आलमारियों और वाशबेसिन में जमे हुए हैं. कुछ घरों में मगरमच्‍छ भी देखे गए हैं. केरल सरकार ने लोगों को एडवाइजरी जारी कर सांप और अन्‍य वन्‍य जीवों से सतर्क रहने को कहा है.

पिछले 10 दिन में राज्य के विभिन्न हिस्सों से सर्पदंश की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं. ऐसे में प्रशासन वन्यजीवन संरक्षणवादी और सांप विशेषज्ञ (स्‍नैक मैन) वावा सुरेश की मदद मांग रहे हैं.

सर्पदंश के कई मामले आए डॉक्‍टरों के पास

समीप के अंगमाली के एक निजी अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि डॉक्टरों ने सर्पदंश के 53 मामले देखे हैं. अंगमाली लिटिल फ्लावर अस्पताल के एक डॉक्टर ने बताया कि नाग, करैत आदि जहरीले सांप बाढ़ के पानी के साथ जंगल से बहकर आ गए और उन्होंने इन वीरान घरों में घर जमा लिया. डॉक्टर ने कहा, ‘ये सांप पानी में डूबे घरों और अन्य ढांचों में पहुंच गए. इसलिए, जो लोग पानी घटने के बाद साफ सफाई के लिए अपने घरों में प्रवेश करते हैं उन्हें सावधानी बरतना चाहिए.’

सर्पदंश के कई मामले आए डॉक्‍टरों के पास

समीप के अंगमाली के एक निजी अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि डॉक्टरों ने सर्पदंश के 53 मामले देखे हैं. अंगमाली लिटिल फ्लावर अस्पताल के एक डॉक्टर ने बताया कि नाग, करैत आदि जहरीले सांप बाढ़ के पानी के साथ जंगल से बहकर आ गए और उन्होंने इन वीरान घरों में घर जमा लिया. डॉक्टर ने कहा, ‘ये सांप पानी में डूबे घरों और अन्य ढांचों में पहुंच गए. इसलिए, जो लोग पानी घटने के बाद साफ सफाई के लिए अपने घरों में प्रवेश करते हैं उन्हें सावधानी बरतना चाहिए.’

स्‍नैक मैन ने मिट्टी के तेल के छिड़काव की सलाह दी

राज्य सरकार के जनसंपर्क विभाग ने इस संबंध में सोशल मीडिया पर अभियान चलाया है. ऐसे ही एक अभियान में सुरेश ने लोगों से सांपों को देखकर नहीं घबराने, अपनी चीजें डंडे के सहारे ढूढने और फर्श को किरोसिन वाले पानी से पोछने की सलाह दी है. माना जाता है कि किरोसिन की गंध से सांप भाग जाते हैं.

वाशिंग मशीन, अलमारी में छिपे हो सकते हैं सांप

स्‍थानीय प्रशासन ने एडवाइजरी में कहा है कि सांप या अन्‍य पानी के जीव अलमारी, कार्पेट के अंदर, कपड़ों में या वाशिंग मशीन में छिपे रह सकते हैं. अस्‍पतालों में एंटी वेनम का भरपूर इंतजाम किया गया है. साथ ही अन्‍य दवाइयों का भी प्रबंध किया गया है. वन्‍य जीव विशेषज्ञों की टीम बनाई गई है जो राज्‍य के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करती है और वहां सांप पकड़ कर उन्‍हें सुरक्षित वन्‍य इलाकों में छोड़ रही है.

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *